''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

नई ग़ज़ल / अरे यार सब चलता है....

>> Friday, December 10, 2010

जो सच्चे पर हँसता है 

पाप ह्रदय में रखता है

पाप-पुण्य के अंतर को
ज्ञानी सदा समझता है

रिश्ता टूट न जाय कहीं
ज़ुल्म तेरे वो सहता है

तू वीरों का है वंशज
क्यों धारे में बहता है

उसको मंजिल मिलती है

बिना रुके जो चलता है
बार-बार टूटा लेकिन
सपना फिर-फिर पलता है

वो है एक बहादुर जो
गिरता मगर संभलता है

मन भी है बच्चा जैसा
अक्सर बहुत मचलता है

मूरख का यह जुमला है
अरे यार सब चलता है

शेर कहे मैंने दिल से
वह दिमाग से लिखता है

झूठे सम्मानित होते
पंकज का दिल जलता है

14 टिप्पणियाँ:

महेन्द्र मिश्र December 10, 2010 at 6:27 AM  

रिश्ता टूट न जाय कहीं
ज़ुल्म तेरे वो सहता है.
तू वीरों का है वंशज
क्यों धारे में बहता है.
आदरणीय गिरीश जी बहुत ही सुन्दर कमाल के भाव हैं लेखनी के ....आभार .
महेन्द्र मिश्र

सतीश सक्सेना December 10, 2010 at 6:44 AM  

झूठे सम्मानित होते
पंकज का दिल जलता है

बहुत खूब पंकज भाई ! शुभकामनायें !!

Rahul Singh December 10, 2010 at 6:47 AM  

सम्‍मान प्रतिभा का कहीं-कहीं और उद्यम का ज्‍यादातर होता है, क्‍या करें.

एस.एम.मासूम December 10, 2010 at 12:23 PM  

मूरख का यह जुमला है
अरे यार सब चलता है
.
बहुत खूब पंकज भाई

अशोक बजाज December 10, 2010 at 12:30 PM  

उसको मंजिल मिलती है,
बिना रुके जो चलता है;
बार-बार टूटा लेकिन,
सपना फिर-फिर पलता है .

बेहतरीन रचना . बधाई !

शिवम् मिश्रा December 10, 2010 at 2:57 PM  


बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

Kunwar Kusumesh December 10, 2010 at 7:03 PM  

जो सच्चे पर हँसता है
पाप ह्रदय में रखता है

पाप-पुण्य के अंतर को
ज्ञानी सदा समझता है

वाह पंकज जी ,क्या बात है.
बढ़िया है.

संगीता स्वरुप ( गीत ) December 10, 2010 at 8:17 PM  

मन भी है बच्चा जैसा
अक्सर बहुत मचलता है

सोचने पर विवश करती गज़ल ...बहुत अच्छी लगी

संजय भास्कर December 10, 2010 at 9:32 PM  

आदरणीय गिरीश जी
नमस्कार !
वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा
.......बहुत अच्छी लगी

वन्दना December 11, 2010 at 4:44 AM  

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

'उदय' December 15, 2010 at 8:48 PM  

... umdaa ... bhaavpoorn ... behatreen post !!!

'उदय' December 15, 2010 at 8:50 PM  

... shaandaar lekhan ... bahut bahut badhaai !!!

usha rai December 16, 2010 at 8:57 AM  

उसको मंजिल मिलती है
बिना रुके जो चलता है
बार-बार टूटा लेकिन
सपना फिर-फिर पलता है !!वाह गिरीश जी !तकलीफ कितनी भी हो ,सही बात पर रहना और सही बात कहना आपका अपना अंदाज है

बलराम अग्रवाल December 17, 2010 at 9:10 AM  

एकदम सामयिक ग़ज़ल है पंकज जी। आखिरी शेर पर बरबस याद आ गया कि--दिल जलता है तो जलने दे…

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP