''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

गीत / माँ शारदे तुझको नमन.....

>> Tuesday, February 8, 2011

शारदे तुमको नमन,
माँ शारदे तुझको नमन.
श्वेतवसना माँ तुझे,
अर्पित है भावों के सुमन...
 

ज्ञान का आलोक तुझसे,
बुद्धि का उत्थान है.
जो शरण में तेरी आया,
पा गया कल्याण है.
पाप हरती तू जगत के,
जब पड़े मंगल-चरन ...

साधना ही लक्ष्य अपना,
बस यही वरदान दे.
हर घड़ी आशीष तेरा,
ज्ञान दे, विज्ञान दे.
जड़मती को भी मिले तव,
बुद्धि का नूतन वसन..


ज्ञान अर्जन के लिये माँ,
मन सदा निर्मल रहे.
हर मनुज में ज्ञानसरिता
हर घड़ी कल-कल रहे.
तेरी वीणा बज उठे तो,
हो तरंगित हर सुजन...

ज्ञान का अभिमान न हो,
साधना का दान दे.
माँ, जगा दे प्रीत मन में,
विश्व का कल्यान दे.
लोकमंगल हो अहर्निश,
शुद्ध हो हर इक भुवन.
.

15 टिप्पणियाँ:

रचना दीक्षित February 8, 2011 at 6:15 AM  

आ० पंकज जी बहुत अच्छा लगी माँ शारदा की यह स्तुति. शेष आपकी कविता पे टिप्पणी करना तो मेरे बस की बात नहीं है.

वसंत ऋतु के आगमन पर ढेर सारी शुभ कामनाएं.

sagebob February 8, 2011 at 8:38 AM  

बहुत ही सुन्दर स्तुति.
ढेरों बसंतई सलाम.

डॉ॰ मोनिका शर्मा February 8, 2011 at 11:14 AM  

सुंदर स्तुति माँ शारदे की ...... बसंतोत्सव की शुभकामनाये

राज भाटिय़ा February 8, 2011 at 12:06 PM  

बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

संजय भास्कर February 8, 2011 at 6:00 PM  

बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

ललित शर्मा February 8, 2011 at 8:09 PM  

सुंदर सरस्वती वंदना है।
स्कूल में उदय गाएगा इसे।

: केवल राम : February 9, 2011 at 4:08 AM  

आदरणीय गिरीश पंकज जी
बहुत सुंदर सरस्वती वंदना है .....आनंद दायक ...आपका आभार

महेन्द्र मिश्र February 10, 2011 at 1:44 AM  

बढ़िया रचना प्रस्तुति...आभार

Archana February 10, 2011 at 4:06 AM  

बहुत ही सुन्दर सरस्वती वन्दना...

गौरव शर्मा "भारतीय" February 10, 2011 at 6:51 AM  

प्रणाम,
सुन्दर वंदना के लिए आभार एवं बसंत पंचमी की बधाई स्वीकार करें !!

Dr Varsha Singh February 10, 2011 at 10:55 AM  

शारदे तुमको नमन,
माँ शारदे तुझको नमन....

बहुत सुन्दर कविता लिखी है आपने आपकी लेखनी को नमन.

POOJA... February 11, 2011 at 4:53 AM  

आपकी यह रचना पढ़कर वो वंदना याद आ गयी...
वर दे वर्दे
वीणा वादिनी वर दे...
बहुत सुन्दर वंदना...

सुनील गज्जाणी February 12, 2011 at 12:42 AM  

प्रणाम,
सुन्दर वंदना के लिए आभार एवं बसंत पंचमी की बधाई स्वीकार करें !!

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार February 12, 2011 at 2:22 AM  

आदरणीय गिरीश पंकज जी
सादर सस्नेहाभिवादन !

बहुत सुंदर वंदना है -
ज्ञान का अभिमान न हो,
साधना का दान दे.
माँ, जगा दे प्रीत मन में,
विश्व का कल्याण दे

'सर्वे भवंतु सुखिना' के विराट लक्ष्य को ले'कर की गई वंदना से मां सरस्वती अवश्य प्रसन्न होगी…

वंदना में मेरा भी स्वर प्रस्तुत है -
जय वागीशा हंसवाहिनी ,महाश्वेता ब्रह्मचारिणी !
नमो शारदे प्रज्ञा शुक्ला वीणा - वाङ्मय - धारिणी !!


बसंत पंचमी सहित बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
- राजेन्द्र स्वर्णकार

S.M.HABIB February 15, 2011 at 8:06 AM  

ज्ञान का अभिमान न हो,
साधना का दान दे.
माँ, जगा दे प्रीत मन में,
विश्व का कल्याण दे
बढ़िया स्तुति
प्रणाम

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP