''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

बची रहे सम्वेदना की हरीतिमा

>> Friday, August 26, 2016



दाना मांझी,
तुम्हारे कंधे पर पत्नी का शव नहीं
मर चुके समाज की लाश है।
पत्नी की आत्मा तो सिधार गई परलोक
किन्तु कंधे पर छोड़ गई समाज का वो चेहरा
जो बताता है कि सम्वेदना अब केवल
सोशल मीडिया में विमर्श की चीज भर है।
शव को चार कन्धे भी नहीं मिलते
जब तक आत्मा को झकझोरा न जाए।
कालाहांडी में केवल भूखे नहीं मरते लोग
वहां सम्वेदना भी दम तोड़ रही है।
वैसे तो हर एक शहर और गाँव
खाली होता जा रहा है ...सम्वेदना की हरीतिमा से।
फिर भी सोचता हूँ इतना निर्मम तो नहीं बनेगा समाज
कि शव को भी न दे सके सम्मान।
धन्य हो दाना मांझी कि
दस किलोमीटर तक पत्नी की लाश ढोने के बाद
मिल गया एक वाहन तुम्हे।
वरना मरने ही वाला था समाज तुम्हारी चौखट पर
बच गया.....बचा लिया वाहन ने। थोड़ा-थोड़ा।


2
दशरथ मांझी ने पत्नी के लिए
पहाड़ खोद कर बनाई थी सड़क
तुम पत्नी के शव को उठा कर
दस किलोमीटर तक चले।
पत्नी-प्रेम के अद्भुत उदाहरणों में
एक और अध्याय जुड़ गया
दाना मांझी।


4 टिप्पणियाँ:

ब्लॉग बुलेटिन August 26, 2016 at 6:30 AM  

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "शब्दों का हेर फेर “ , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Kavita Rawat August 26, 2016 at 7:26 AM  

संवेदनहीन होते इंसानों की भीड़ बढ़ती जा रही है ..
बेहद मर्मस्पर्शी

प्रतिभा सक्सेना August 26, 2016 at 5:22 PM  

स्वयं को औरों से अधिक श्रेष्ठ समझनेवाले ऐसे ही संवेदनाहीन हो जाते हैं .

चला बिहारी ब्लॉगर बनने August 27, 2016 at 12:30 AM  

वह जिला अभिशप्त है ऐसी घटनाओं के लिये और यह समाज भी... ऐसी घटनाओं को देखते हुए लगता ही नहीं कि हम सभ्य समाज का अंग हैं. आपकी अभिव्यक्ति दिल को छूती है!

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP