''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

>> Friday, October 30, 2009

साधो यह हिजडों का गाँव-5

व्यंग्य-पद

 (14)
कैसी है अपनी सरकार।
अपने लोगों पर ही पड़ती, गोली औ डंडों की मार।
लोकतंत्र अब गाली-सा है, बहती है अँसुवन की धार।
जो विरोध में खड़े हुए हैं, उनके ऊपर ल_ï प्रहार।
उनका अभिनंदन होता है, जो करते केवल जयकार।
कैसी यह आज़ादी जिसमें, दिखे $गुलामी का व्यवहार।


(15)
कैसे कहें इन्हें अ$खबार।
समाचार कम दिखते जिसमें, पसरा रहता है व्यभिचार।
डॉन-मा$िफया फ्रंट पेज़ पर, जगह न पाते हैं $फनकार।
नेताओं की गोद में खेलें, अफसर इनके सच्चे यार।
मिशन बन गया आज कमीशन, संपादक ज्यों ठेकेदार।
समाचार में विज्ञापन है, या विज्ञापन में समाचार।


(16)
वाहे रे संपादक, तू दल्ला।
लिखना-पढना भूल गया सब, केवल धंधे का दुमछल्ला।
$कलम नहीं दिखती पॉकिट में, मोबाइल है माशाअल्ला।
मालिक के काले कामों का, रक्षक बन कर घूमे लल्ला।
सेठों का हित सर्वोपरि है, इसीलिए करता बस हल्ला।
प्रायोजित खबरों को छापे, भरता घर में पैसा-गल्ला।

2 टिप्पणियाँ:

AlbelaKhatri.com October 30, 2009 at 12:22 PM  

भाई पंकज जी
मैं आपके इन पदों के लिए आपका हार्दिक अभिनन्दन करता हूँ..........

सच !
आनन्द आ गया,,,,,,,,,खरी चोट की आपने.........

नीरज गोस्वामी November 2, 2009 at 2:16 AM  

गिरीश जी किन शब्दों में प्रशंशा करूँ आपके इन व्यंग बाणों की वाह...आपके तरकश में ऐसे तीर हैं जो हर किसी की बखिया उधेड़ कर फैंक सकते हैं...कमाल का व्यंग लेखन है...आप के ये दोहे बरसों बरस याद रहेंगे...
नीरज

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP