''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

गीत का जन्म लेना सफल हो गया...

>> Wednesday, October 21, 2009

     गीत 
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...   

गीत मैंने रचे, जब वो तुमको रुचे,
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...

ये कड़ी धूप है ज़िन्दगी हाँ मगर,  तुम जो आये तो छाओं के मेले रहे.
तुम नहीं थे कभी तब तो सचमुच प्रिये, भीड़ में भी खड़े हम अकेले रहे.
साथ तेरा मिला,
मन सुमन-सा खिला,
घर ये मेरा था खंडित, महल  हो गया....
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...


ज़िन्दगी ये नसीबों से हमको मिली, इसको बाँटेंगे हम-तुम, चलो प्यार से.
गर यूं लड़ते रहे, ईर्षा में जले, क्या कहेंगे हम अपनी सरकार से   
जो मनुज के लिए,
ज़िन्दगी भर जिए,
वो तो सबके ह्रदय का कमल हो गया....
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...

हम हुए छुद्र बन कर के हिंसक पशु, खून अपने जनों का ही करते रहे,
मन किसी का दुखा, तन किसी का मिटा, मार कर के स्वयं भी तो मरते रहे.
लाख चौरासी योनि
से लौटे धनी
आदमी का जनम ही विफल हो गया...

गीत मैंने रचे, जब वो तुमको रुचे, 
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...
गिरीश पंकज                                           

4 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा October 21, 2009 at 9:01 AM  

ये कड़ी धूप है ज़िन्दगी हाँ मगर, तुम जो आये तो छाओं के मेले रहे.
तुम नहीं थे कभी तब तो सचमुच प्रिये, भीड़ में भी खड़े हम अकेले रहे.
साथ तेरा मिला,
मन सुमन-सा खिला,
घर ये मेरा था खंडित, महल हो गया....
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...

पढकर हमारा भी जीवन सफ़ल हो गया -बधाई

परमजीत बाली October 21, 2009 at 10:05 AM  

बहुत ही सुन्दर व मोहक गीत है।बहुत बहुत बधाई।

Udan Tashtari October 21, 2009 at 12:15 PM  

गीत मैंने रचे, जब वो तुमको रुचे,
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...

--बहुत सही!

योगेश स्वप्न October 21, 2009 at 6:02 PM  

हम हुए छुद्र बन कर के हिंसक पशु, खून अपने जनों का ही करते रहे,
मन किसी का दुखा, तन किसी का मिटा, मार कर के स्वयं भी तो मरते रहे.
लाख चौरासी योनि
से लौटे धनी
आदमी का जनम ही विफल हो गया...

गीत मैंने रचे, जब वो तुमको रुचे,
गीत का जन्म लेना सफल हो गया...

girish bhai kamaal likhte hain aap , badhaai/

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP