''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

नेह मनुज को मिल जाता तो..

>> Saturday, October 24, 2009

गीत...

नेह मनुज को मिल जाता तो,
यह जीवन बेकार न होता.
होकर भी सुन्दर-सुखकारी,
अर्थहीन संसार न होता..

प्रिय रूठे तो लगता जैसे, जग ही हमसे रूठ गया है.
अपना कोई सच्चा साथी, बीच राह में छूट गया है.
तुम रहते गर साथ हमारे, वंचित-सा व्यवहार न होता.
नेह मनुज को मिल जाता तो,
यह जीवन बेकार न होता..

चलो साथ में जैसे इक, परछाई साथ हुआ करती है.
जैसे माँ अपने बच्चे को, दिल से सदा दुआ करती है.
कैसे टिक पाती यह दुनिया, अगर यहाँ पे प्यार  न होता..
नेह मनुज को मिल जाता तो,
यह जीवन बेकार न होता.

पल भर के इस जीवन को हम, नफ़रत का उपहार न देंगे.
हो कितना भी संकट हम तो, हाथों में हथियार न लेंगे.
कितनी बदसूरत दिखती यह दुनिया गर श्रृंगार न होता..
नेह मनुज को मिल जाता तो,
यह जीवन बेकार न होता.

चन्दन बनकर इस दुनिया में, जिसने गंध बिखेरी है.
वह माथे पर लगा हमेशा, दुनिया उसकी चेरी है.
अगर दीप जल जाते सारे, जगती में अंधियार न होता..

नेह मनुज को मिल जाता तो,
यह जीवन बेकार न होता.
होकर भी सुन्दर-सुखकारी,
अर्थहीन  संसार न होता..
गिरीश पंकज  

6 टिप्पणियाँ:

Mita Das October 24, 2009 at 12:26 PM  

mujhe chandbadh kavita ki samajh nahi hai pr jo kavita man ko bha jaye oh acchi hai .neh or nishakt wali rachna kya khoob.

वाणी गीत October 24, 2009 at 3:32 PM  

नेह मनुज को मिल जाता तो,
यह जीवन बेकार न होता.
होकर भी सुन्दर-सुखकारी,
अर्थहीन संसार न होता..

संसार अर्थहीन कभी नहीं हो सकता ...फर्क हमारी अंतर्दृष्टि का हो सकता है ...नेह मिले और जीवन बेकार होने से बच जाये ...बहुत शुभकामनायें ...!!

M VERMA October 24, 2009 at 4:40 PM  

अगर दीप जल जाते सारे, जगती में अंधियार न होता..
बहुत खूबसूरत गीत. मन को छूते है आपके गीत.

ललित शर्मा October 24, 2009 at 6:39 PM  

चन्दन बनकर इस दुनिया में, जिसने गंध बिखेरी है.
वह माथे पर लगा हमेशा, दुनिया उसकी चेरी है.
अगर दीप जल जाते सारे, जगती में अंधियार न होता..
बहुत सुंदर गिरीश भैया बधाई होक

योगेन्द्र मौदगिल October 24, 2009 at 7:37 PM  

सुंदर रचना... वाह

Dr. Smt. ajit gupta October 24, 2009 at 10:17 PM  

पता नहीं कहाँ गया नेह? बस ईर्ष्‍या ही हावी होती जा रही है। हम जितने व्‍यक्तिवादी बनते जाएंगे, दूसरे के प्रति नेह कम और ईर्ष्‍या ज्‍यादा पालते रहेंगे। बहुत ही अच्‍छा गीत। बधाई।

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP