''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

साधो यह हिजड़ों का गाँव-१७

>> Friday, December 4, 2009


व्यंग्य-पद
दिल्ली और लखनऊ की व्यंग्य-यात्रा करने के बाद लौटा हूँ. सबसे पहले अपने कुछ व्यंग्य-पद पोस्ट कर रहा हूँ. कोशिश है कि सौ पद लिखो. पता नहीं यह काम हो पायेगा या नहीं, फिर भी लेखक को वैज्ञानिक की  तरह कोशिश करनी ही चाहिए. बहरहाल ३ नए पद...
(52)
मिठलबरे हैं नेता सारे।

माल खा गए मधु कौडा जी, जनता के हिस्से में नारे. 
हवा खा रहे आज जेल की, कल आयेंगे बाहर प्यारे.
बैठ गए हैं मंचों पर अब, कैसे कोई इनको टारे।
केवल घर भरने की चिंता, लोग फिर रहे मारे-मारे।
थोड़ा-सा चंदा बस दे दो, लूटो-नोचो कौन विचारे।
लोकतंत्र अब बाँझ सरीखा, यहाँ न होते चाँद-सितारे।
तन पर खादी पहन घूमते, गाँधी जी के ये हत्यारे।
(53)
साधो जोड़-तोड़ है भारी।
सबको सुविधाओं की चाहत, क्या है नर अरु क्या है नारी।
बिक जाए तन-मन भी चाहे, मिल जाए बस दौलत सारी।
प्रतिभा कम है तिकड़म ज्यादा, नए दौर की है बीमारी।
अच्छे तो ता घर पर बैठो, बाहर हैं केवल व्यापारी।
कैसे कोई पकड़ा जाए, चोर-पुलिस में जब हो यारी ।
(54)
आखिर यह कैसा भगवान।
जिसकी नज़रों के सम्मुख ही, पलते रोज बड़े शैतान।
कभी लुटे नारी की अस्मत और कभी मानव की शान।
नगर सेठ या नगर के पापी, करते पूजा-अर्चन-ध्यान।
शरम नहीं आती मिल जाते, जहाँ-तहाँ भूखे इंसान।
क्यों है ऐसा इस पर कहते, विधना का है यही विधान।
ठ्रस्टी सब परसाद खा गये, प्रभु हो गये अंतर्धान।
इनके सम्मुख सकल करम हो, मगर न होवे इनको ज्ञान?
हाय-हाय ये कैसी पूजा, भक्तों में न रहा ईमान।

3 टिप्पणियाँ:

राजीव तनेजा December 4, 2009 at 6:29 AM  

आजकल के हालात को दर्शाते समयानुकूल व्यंग्य पद...पढकर आनंद आ गया...

आप एक सौ क्या...दस हज़ार का आंकड़ा भी पार करेंगे

ललित शर्मा December 4, 2009 at 6:46 AM  

दिल्ली लखनऊ तार दिये अब हमको भी तो तारो।
आप यात्रा पर चल दिये कैसे होय हमरो निबारो॥

आभार,

योगेश स्वप्न December 4, 2009 at 4:42 PM  

bahut umda vyangya men kamaal.

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP