''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

महावीर वचनामृत-२

>> Saturday, January 23, 2010

गतांक से आगे .......
(11)
परिग्रहों से मुक्त जो, मिला उसे ही ज्ञान।
सुख में डूबी ज़िंदगी, करे लोक कल्यान।।

(12)
कीचड़ में भी कमल-सा, जिसका अंतस होय।
वही एक पंडित सही, और न दूजा कोय।।

(13)
लख नारी के अंग को, जागे नहीं विकार।
ब्रह्मचर्य सच्चा वही, मानव करे विचार।।

(14)
तृष्णा से हर तरुण का, होता है नुकसान।
कामातुर जो भी हुआ, गया काम से जान।।

(15)
दुनिया से तुम मत लड़ो, करो स्वयं से युद्ध।
सुख सच्चा पा कर बनो, महावीर परबुद्ध।।

(15)
बीत गई जो रात थी, सम्मुख दिखे प्रभात।
जागे से बनती रही, हरदम बिगड़ी बात।।

(16)
जैसा खुद से चाहते, हो सबसे व्यवहार।
महावीर कहते यही, सच्चा लोकाचार।।
(17)
राग-द्वेष दो पाप हैं, इनसे रह कर दूर।
बन जाएँ हम जगत के, बस चमकीले नूर।।

(18)

क़र्ज़, घाव अरु आग को, तू मन छोटा जान।
धीरे-धीरे ये बढ़ें, रहते सजग सुजान।।

(19)
क्रोध प्रीत को, विनय को नष्ट करे अभिमान।
लोभ नाश सबका करे, रे मानव पहचान।।

(20)
क्षमा जीतती क्रोध को, लोभन को संतोष।
पाप अगर अगर हो जाय तो, करना तुम अफसोस।।

3 टिप्पणियाँ:

योगेश स्वप्न January 24, 2010 at 1:04 AM  

bahut sunder gyaan se bharpoor dohe, girish ji maine bhi koshish ki hai dohe likhne ki ,ho sakta hai niyamanukul na hon ek nazar dalen.

Kusum Thakur January 24, 2010 at 5:57 PM  

"क्षमा जीतती क्रोध को, लोभन को संतोष।
पाप अगर अगर हो जाय तो, करना तुम अफसोस।।"

सारे दोहे एक से बढ़कर एक हैं . बहुत खूब !!

दिव्य नर्मदा divya narmada January 30, 2010 at 1:27 AM  

satprayas...

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP