''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

ग़ज़ल/ मै उजियारा बाँट रहा था मगर हवा को रास न आया

>> Saturday, June 12, 2010

मै उजियारा बाँट रहा था मगर हवा को रास न आया 
उसने आँधी को भेजा और मेरा जलता दीप बुझाया

एक दीप बुझ जाने पर भी हार नहीं मानी मैंने 
फिर से दीप जलाकर मैंने बस आँधी को सबक सिखाया 
                                          
नेक राह पर चलना भी क्या अब इतना आसान रहा
फिर भी कांटें चुन-चुन मैंने हरदम आगे कदम बढ़ाया

आओ हम सब मिल करके अब अंधकार पर हल्ला बोलें 
देखो साथ निभाने खातिर नन्हा दीपक आगे आया

जिसने अपनी राह बनाई मेहनत करके जीवन में,
उस राही को इस दुनिया में सचमुच कोई भूल न पाया 

असफलताएँ और नहीं कुछ इम्तिहान है पंकज का
लगता है जी भर कर मैंने अभी नहीं कुछ जोर लगाया                                                                                                                                                  

10 टिप्पणियाँ:

संगीता पुरी June 12, 2010 at 10:06 AM  

वाह .. बहुत प्रेरणादायक रचना !!

दिलीप June 12, 2010 at 10:07 AM  

waah sakaratmakta jeevan me safalta ke liye bahut zaruri hai...badhiya sandesh

सतीश सक्सेना June 12, 2010 at 10:14 AM  

बेहतरीन शिक्षाप्रद, रास्ता दिखानेवाली रचना , शुभकामनायें गिरीश भाई !

राजीव तनेजा June 12, 2010 at 10:19 AM  

प्रेरणा देती सुन्दर रचना

संगीता स्वरुप ( गीत ) June 12, 2010 at 10:29 AM  

प्रेरणादायक खूबसूरत रचना....

विनोद कुमार पांडेय June 12, 2010 at 10:32 AM  

चाचा जी बराबर आप की ग़ज़ल पढ़ता आया हूँ शायद ही कभी कोई छूट पता हो वैसे तो हर ग़ज़ल बढ़िया होती है पर आज की ग़ज़ल हमें कुछ ज़्यादा ही खास लगी एक प्रेरणा देती हुई जो खुद में आत्मविश्वास भर दे...बहुत ही भावपूर्ण और लाज़वाब रचना ..इस भतीजे का प्रणाम स्वीकार करें

अविनाश वाचस्पति June 12, 2010 at 10:37 AM  

हवा को पीता है
तभी तो जीता है

Jandunia June 12, 2010 at 10:52 AM  

सार्थक पोस्ट

हिमांशु । Himanshu June 13, 2010 at 9:58 AM  

सहज सरल सकारात्मक भावयुक्त रचना !
आभार ।

'उदय' June 13, 2010 at 7:52 PM  

असफलताएँ और नहीं कुछ इम्तिहान है पंकज का
लगता है जी भर कर मैंने अभी नहीं कुछ जोर लगाया
... बेहतरीन !!!

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP