''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

व्यंग्य/ उफ़ ये आम आदमी भी न...

>> Friday, January 7, 2011

नई दुनिया, रायपुर (७-१-२०११) मे प्रकाशित व्यंग्य 
साहित्यानुरागियों के अवलोकनार्थ..

6 टिप्पणियाँ:

Tarkeshwar Giri January 7, 2011 at 6:52 AM  

एक बेहतरीन लेख, और एक अच्छा सा मुद्दा. लेकिन आपके अन्दर हिम्मत नहीं हैं, तभी तो अपने किसी नेता या मंत्री का नाम लेने कि बजाय क ख ग का इस्तेमाल किया हैं.aap ne K KH Ga

सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट) http://cartoondhamaka.blogspot.com/ January 7, 2011 at 6:57 AM  

अच्छा व्यंग्य ! बेहतर लेखनी ..बधाई !

Patali-The-Village January 7, 2011 at 8:59 PM  

आज के नेताओं की सच्चाई उजागर करती रचना| धन्यवाद|

S.M.HABIB January 8, 2011 at 8:08 AM  

अच्छा व्यंग्य है भईया. बधाई.

विनोद कुमार पांडेय January 8, 2011 at 7:48 PM  

मँहगाई पर एक धारदार व्यंग्य....राजनेता का खुराफाती दिमाग़ क्या क्या न सोच लेन्न...आम आदमी ही नही मंहगाई से तो वो खुद को भी परेशान बता रहे है जबकि खुद वो ही मँहगाई बढ़ने के ज़िम्मेदार है..

जबरदस्त रचना..बहुत बहुत बधाई..प्रणाम

sushant jain January 31, 2011 at 11:45 AM  

Aapke vyangya bahut kase huye h. Netao ko ye vyangya jarur chubhenge..

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP