''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

गांवों की शान से ही छत्तीसगढ़ की आन ...

>> Friday, January 21, 2011

नईदुनिया, रायपुर के  20-1-२०११ में प्रकाशित लेख

5 टिप्पणियाँ:

mahendra verma January 21, 2011 at 5:00 AM  

गांव हैं तो हम हैं....
बल्किुल सही कहा आपने। छत्तीसगढ़ का गौरव उसके गांवों में ही बसता है।
गांव और ग्रामीण संस्कृति का संरक्षण आवश्यक है।
जब गांव ही नहीं रहेंगे तो शहर वाले किसे अपना शहरीपन दिखाएंगे?

shikha varshney January 21, 2011 at 6:21 AM  

असली भारत तो आज भी गांवों में ही बसता है.पर कब तक बचा रहेगा पता नहीं.

"अभियान भारतीय" January 21, 2011 at 6:46 AM  

वाकई हमें अपने जड़ों की ओर लौटना होगा, अपने गाँव को उजड़ने से बचाना होगा नहीं तो ग्रामीण भारत की स्थिति भविष्य में अकल्पनीय होगी जिसके जिम्मेदार हम स्वयं होंगे |
बेहद प्रभावी एवं सार्थक पोस्ट के लिए बधाई स्वीकार करें |

डॉ॰ मोनिका शर्मा January 21, 2011 at 7:51 AM  

सच में गाँव से ही हैं हम ..... हमारे गाँव आज भी देश की रीढ़ हैं...... आपका आलेख पढ़कर अच्छा लगा

Rahul Singh January 21, 2011 at 5:18 PM  

प्रगति और विकास की कीमत.

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP