''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

नई ग़ज़ल / है यही पगले जवानी.....

>> Friday, February 25, 2011

जब कभी मचले जवानी 
दृश्य को बदले जवानी

लड़खड़ाते हैं सभी पर
जो यहाँ संभले जवानी

आ रहा पीछे बुढ़ापा
आज तू हँस ले जवानी

मानती है बात किसकी
है यही पगले जवानी

है किधर जाना कहो तो
कुछ पड़े पल्ले जवानी

टूट जाये स्वप्न सारे
ऐसे न उछले जवानी

गर न हों संकल्प ऊँचे
हर कदम फिसले जवानी

आग का दरिया रहेगा
फिर अगर निकले जवानी

पेड़ बोता है बुढ़ापा
और फल चख ले जवानी

चल पडी तो चल पडी बस
कब कहाँ दम ले जवानी

इक नया इतिहास गढ़ने
दुःख सभी सह ले जवानी

14 टिप्पणियाँ:

गौरव शर्मा "भारतीय" February 25, 2011 at 7:02 AM  

चल पडी तो चल पडी बस
कब कहाँ दम ले जवानी

इक नया इतिहास गढ़ने
दुःख सभी सह ले जवानी


वाह बेहतरीन पंक्ति..और पूरा ग़ज़ल भी लाजवाब है !!

sagebob February 25, 2011 at 7:10 AM  

आ रहा पीछे बुढ़ापा
आज तू हँस ले जवानी

सरल बयानी में बढ़िया ग़ज़ल .
सलाम

राज भाटिय़ा February 25, 2011 at 8:21 AM  

वाह जी बहुत ही सुंदर रचना, धन्यवाद

Dr Varsha Singh February 25, 2011 at 9:50 AM  

बहुत अच्छी ग़ज़ल है। सुंदर रचना के लिए साधुवाद!

वाणी गीत February 25, 2011 at 4:41 PM  

आ रहा पीछे बुढ़ापा
आज तू हंस ले जवानी !

समय रहते कहाँ सोचते हैं लोग !
सुन्दर रचना !

संगीता स्वरुप ( गीत ) February 26, 2011 at 3:16 AM  

जवानी में बुढ़ापा कौन याद रखता है ....बाद में सोचते हैं ..

Deepak Saini February 26, 2011 at 4:14 AM  

बहुत सुंदर रचना, धन्यवाद

shikha varshney February 26, 2011 at 6:29 AM  

आ रहा पीछे बुढ़ापा
आज तू हँस ले जवानी
वाह क्या बता कही है ..बहुत खूब.

mahendra verma February 26, 2011 at 10:32 PM  

गर न हों संकल्प ऊँचे
हर कदम फिसले जवानी

आग का दरिया रहेगा
फिर अगर निकले जवानी

जवानी को अलग-अलग कोणों से निहारती अच्छी ग़ज़ल।
हर शेर एक संदेश का वाहक भी बन गया है।

S.M.HABIB February 27, 2011 at 12:59 AM  

वाह भैया... बड़ी अनोखी ग़ज़ल है...
"इक नया इतिहास गढ़ने
दुःख सभी सह ले जवानी"
सचमुच...
सादर....

Dr (Miss) Sharad Singh February 27, 2011 at 2:50 AM  

चल पडी तो चल पडी बस
कब कहाँ दम ले जवानी
इक नया इतिहास गढ़ने
दुःख सभी सह ले जवानी.....

बहुत सुन्दर शेर...बहुत सुन्दर ग़ज़ल...

anu February 27, 2011 at 4:16 AM  

खूबसूरत गज़ल ....

Rahul Singh February 27, 2011 at 5:42 AM  

जिन्‍दादिल जवानी.

Dilbag Virk March 2, 2011 at 4:43 AM  

sunder gazal

nai gazal shirshk hai ya gazal se alg koi nai vidha samjh nhin aaya
vaise niymon se yah gazal hi lgi

----- sahityasurbhi.blogspot.com

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP