''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

नई ग़ज़ल/ डरे हुए हैं दुनिया से नहीं निकलते घर से लोग

>> Thursday, June 23, 2011

बहुत दिन बाद आया. नेट ख़राब था. सड़क चौडीकरण के चक्कर में मज़दूरों ने केबल ही काट दिया. मजबूरी में छटपटाते रहे. कल केबल जुडा तो राहत मिली. खैर, एक नई ग़ज़ल पेश है. पता नहीं कैसी बनी है. लेकिन मन की अभिव्यक्ति है.

टूटे-फूटे उजड़े लोग
ऐसे भी जी लेते लोग

दिल अपनों का जो तोड़े
पापी हमको लगते लोग

खुद्दारी अब लगे बुरी
ऐसा भी कुछ कहते लोग

खुदगर्जी में अंधे हैं
कहने को थे अपने लोग

डरे हुए हैं दुनिया से
नहीं निकलते घर से लोग

हर ख्वाहिश से ऊपर हैं
अपनी धुन में चलते लोग

पंकज ज़िंदा पार लगें 
मुर्दे हैं तो बहते लोग  

 

 


14 टिप्पणियाँ:

mahendra verma June 23, 2011 at 8:18 AM  
This comment has been removed by the author.
mahendra verma June 23, 2011 at 8:19 AM  

हर ख्वाहिश से ऊपर हैं
अपनी धुन में चलते लोग

अपने धुन में चलने वालों के पास न कोई इच्छा होती है और न अनिच्छा।
गज़ब का शेर।

लोगों की सोच के विभिन्न पहलुओं को दर्शाती सुंदर ग़ज़ल।

बहुत दिनों से आपका इंतज़ार था।

ब्लॉ.ललित शर्मा June 23, 2011 at 8:26 AM  

भाई साहब,नेट कटने की छटपटहट ने आपसे एक उम्दा गजल कहा दी।

दुष्यंत कुमार कह गए हैं

गम-ए-जांना गम-ए-दौरां गम-ए-हस्ती गम-ए-ईश्क
जब गम ही गम दिल में भरा हो तो गजल होती है।

सुंदर गजल के लिए आभार

Sunil Kumar June 23, 2011 at 9:25 AM  

सबकी अपनी अपनी सोंच , खुबसूरत गज़ल मुबारक हो

शिवम् मिश्रा June 23, 2011 at 10:17 AM  

जय हो महाराज … बेहद उम्दा रचना !

Dr (Miss) Sharad Singh June 23, 2011 at 10:43 AM  

दिल अपनों का जो तोड़े
पापी हमको लगते लोग

शब्द-शब्द सत्य....
सुन्दर ग़ज़ल...

संगीता स्वरुप ( गीत ) June 23, 2011 at 11:43 AM  

बहुत खूबसूरत गज़ल

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार June 23, 2011 at 1:31 PM  

आदरणीय गिरीश पंकज भाई जी
सादर सस्नेहाभिवादन !

आपकी बहुत याद आ रही थी , यद्यपि मैं स्वयं भी कम ही सक्रिय रह पा रहा हूं …

अच्छी रचना के लिए आभार
खुदगर्जी में अंधे हैं
कहने को हैं अपने लोग

बहुत शानदार ! आप हमेशा मानवीयता के समर्थन में आवाज़ उठाते हैं …

साधुवाद !
हार्दिक शुभकामनाएं !

- राजेन्द्र स्वर्णकार

Udan Tashtari June 23, 2011 at 2:00 PM  

वाह! बेहतरीन गज़ल!!!

S.M.HABIB June 23, 2011 at 7:39 PM  

"टूटे-फूटे उजड़े लोग
ऐसे भी जी लेते लोग"
आपकी ग़ज़ल हमेशा जानी पहचानी सी लगती है....
एकदम अपने आसपास की....
बहुत सुन्दर.....
सादर प्रणाम....

Babli June 23, 2011 at 8:49 PM  

खुद्दारी अब लगे बुरी
ऐसा भी कुछ कहते लोग
खुदगर्जी में अंधे हैं
कहने को थे अपने लोग..
बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! हर एक शेर लाजवाब है! उम्दा ग़ज़ल!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/

Er. सत्यम शिवम June 24, 2011 at 4:23 AM  

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (25.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

Dr Varsha Singh June 25, 2011 at 10:49 PM  

हर शेर यथार्थ के भावों से तराशे हैं आपने !

ehsas June 27, 2011 at 9:19 AM  

एक बार फिर से बेहतरीन गजल। वैसे भी आपको पढ़ना हमेशा अच्छा लगता है।

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP