''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

सबके रेट बढ़ा रहे, दिल्ली के शैतान......

>> Sunday, April 1, 2012

एक समय था जब देश देश की तरह चला करता था. अब तो लगता है देश किसी बड़े सेठ की दूकान है, जो अपने लाभ की ही चिंता में लगा रहता है. दुःख होता है कि हमारी सरकार को आम नागरिक की बिलकुल चिंता नहीं. महंगाई बढ़ती ही जा रही है. देश में ऐसे करोड़ों लोग है, जिनको  महंगाई-भत्ता  नहीं मिलता. वे लोग कहाँ जाएँ, क्या करे? खैर, हम कुछ नहीं कर सकते. केवल एक कविता लिख सकते है. या जानते हुए भी की इससे कुछ नहीं हो सकता.
महँगाई से भिड गया, टांका ऐसा यार
जब चाहे उसके लिए, खडी हुई सरकार.

जनता जाये भाड़ में, अब ऐसा है दौर,
दिल्ली छीने जा रही, अब तो मुंह का कौर.


देश देश ना अब रहा, जैसे कोई दुकान,
दिल्ली मानों सेठ है, बेच रही सामान .

घटा सह कर भी अगर, दे राहत सरकार.
जनता करती है सदा, तब उसकी जयकार.

लोकतंत्र का हो गया , कैसा सत्यानाश,
छः दशकों के बाद अब, लगता जैसे लाश.

बिजली हो, पेट्रोल हो, खाने का सामान,
सबके रेट बढ़ा रहे, दिल्ली के शैतान

कैसे अब जीवन जिये , हैरत में इंसान.
दूर बहुत बदलाव है, दुखिया हिन्दुस्तान

12 टिप्पणियाँ:

mahendra verma April 1, 2012 at 7:27 AM  

बिजली हो, पेट्रोल हो, खाने का सामान,
सबके रेट बढ़ा रहे, दिल्ली के शैतान

कैसे अब जीवन जिये , हैरत में इंसान.
दूर बहुत बदलाव है, दुखिया हिन्दुस्तान

दोहों में हिंदुस्तान का दर्द साफ दिखाई दे रहा है।

परमजीत सिँह बाली April 1, 2012 at 9:33 AM  

सही है जी ये महँगाई तो मार डाले रही है...बढिया रचना है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) April 1, 2012 at 10:20 AM  

सत्य को कहती खूबसूरत गजल ...

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ April 1, 2012 at 10:26 AM  

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
आपकी यह प्रविष्टि कल दिनांक 02-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') April 1, 2012 at 7:56 PM  

(बिजली हो, पेट्रोल हो, खाने का सामान,
सबके रेट बढ़ा रहे, दिल्ली के शैतान)

दिल्ली के शैतान, बदलते नितनव मुखड़े,
समझ सकें वो काश, बिलखते जन के दुखड़े
बापू का हर ख्वाब, टूटता रोती तकली
उनके 'उन' पर आज, गिराते निर्मम बिजली॥

करारे दोहों में देश का दर्द अभिव्यक्त कर दिया भईया...
सादर प्रणाम.

udaya veer singh April 1, 2012 at 8:12 PM  

खूबसूरत गजल ...

dheerendra April 1, 2012 at 11:55 PM  

बहुत बढ़िया गजल,सुंदर पोस्ट,....

MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

veerubhai April 2, 2012 at 12:47 AM  

जनता जाये भाड़ में, अब ऐसा है दौर,
दिल्ली छीने जा रही, अब तो मुंह का कौर.
सरकार का हाथ आपकी जेब में .

रविकर April 2, 2012 at 1:30 AM  

बेहतरीन ||

Pallavi April 2, 2012 at 1:43 AM  

सार्थक रचना ....

shikha varshney April 2, 2012 at 12:36 PM  

दोहों में आम इंसान के दर्द की झलक.
बेहतरीन.

Sawai Singh Rajpurohit April 5, 2012 at 2:48 AM  

बहुत ही सुंदर प्रस्तुति

आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया,"राजपुरोहित समाज" आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ
,एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से सभी को भगवन महावीर जयंती, भगवन हनुमान जयंती और गुड फ्राइडे के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ॥
आपका

सवाई सिंह{आगरा }

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP