''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

गूंजे मैया की जय कार...

>> Tuesday, October 16, 2012

एक भक्तिगीत/ सर्वधर्म सद्भाव वाला व्यक्ति हूँ. लोगो के कहने पर ईश्वर के लिए भक्ति-गीत लिखे, तो अल्लाह की इबादत के लिए भी लिखने में आगे रहा. फिलहाल आज नवरात्रि के अवसर पर माता के भक्तों के लिए मेरे ये भाव-सुमन अर्पित है...
-------------------------------------
गूंजे मैया की जयकार...बार-बार अरे बारम्बार...
माता है सबकी कल्याणी, ये तो शक्ति का भण्डार.

गूंजे मैया की जय कार........
नव दुर्गा का रूप मनोहर. 
कौन है मैया तेरे ऊपर.
तू सबकी है भाग्य विधाता , 
तू शक्ति है, तू है माता.
'शैलपुत्री' बन करे ये आयी, 
'ब्रह्मचारिणी' रूप दिखाई.
'चंद्रघंटा' भी नाम है तेरा,
 'कुसमुंडा' भी माँ कहलाई.
सच्चे दिल से पूजा हो तो, 
माँ करती स्वीकार ...
गूंजे मैया की जय कार...

'स्कंधमाता', 'कात्यायनी' भी, है ये तेरे नाम,
'कालरात्रि' औ 'महागौरी' को कोटि-कोटि परनाम.
''सिद्धरात्री' माता कर तू, 
भक्तों का उद्धार...
गूंजे मैया की जय कार...
बार-बार अरे बारम्बार..

4 टिप्पणियाँ:

Dheerendra singh Bhadauriya October 16, 2012 at 8:27 AM  

गूंजे मैया की जयकार...बार-बार अरे बारम्बार...
माता है सबकी कल्याणी,ये तो शक्ति का भण्डार.,,,,

बहुत खूबशूरत लाजबाब भक्तिगीत,,पंकजजी,बधाई,,,,

नवरात्रि की शुभकामनाएं,,,,

RECENT POST ...: यादों की ओढ़नी

संगीता स्वरुप ( गीत ) October 16, 2012 at 10:29 PM  

बहुत सुंदर .... नवरात्रि की शुभकामनायें

sushma 'आहुति' October 17, 2012 at 7:22 AM  

नवरात्रि की शुभकामनायें....

Anonymous October 20, 2012 at 10:34 AM  

नवरात्रि कि हार्दिक शुभकामनाएँ आपको भी!!!!!!!

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP