''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

गीत/ सत्ता का गुणगान नहीं जो लिख पाया....

>> Wednesday, December 5, 2012

।। गीत।।
---------------
सत्ता का गुणगान नहीं जो लिख पाया।
क्या करता कि कभी नहीं वो बिक पाया। ।
--------------
बाजारों में लोग बड़े आतुर दिखते,
जिसको देखो चौराहे पर खडा हुआ।
मिल जाएँ कुछ टुकडे तो वे लपकेंगे,
यहाँ आदमी बिकने पर है अड़ा हुआ।
तना रहा इक गर्वीला मस्तक फिर भी,
चाहा था लोगो ने पर ना झुक पाया।
सत्ता का गुणगान कभी न लिख पाया।।
---------
यहाँ लगी है स्पर्धाएं बिकने की अब,
भाव लगा कर लोग हजारों बैठे हैं।
खुद्दारी में जीने वाले को ताने,
'देखो, साहब जी ये कैसे ऐठे हैं।'
फिर भी मैं तो केवल अपनी राह चला,
मिले प्रलोभन लाख कभी ना रुक पाया।
सत्ता का गुणगान कभी ना  लिख पाया।।
---
अब है ये चालाक-समय कुछ समझो भी,
बिना बिके अब धन अर्जन न हो पाए।
इसीलिए हैं भीड़ बड़ी बाज़ारों में,
जो धक्का दे अब वो आगे बढ़ जाए ।
इक पागल था खडा रहा बिलकुल पीछे,
बेचारा इस 'आंधी' में ना टिक पाया।
सत्ता का गुणगान कभी न लिख पाया।।

5 टिप्पणियाँ:

वीना December 6, 2012 at 2:02 AM  

लाजवाब....

वाणी गीत December 6, 2012 at 2:22 AM  

जो गुणगान नहीं लिख पाए , उसका टिकना मुश्किल ...
वर्तमान सन्दर्भ में सटीक विचार !

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया December 6, 2012 at 6:41 AM  

बहुत सुंदर वर्तमान की सटीक प्रस्तुति,,

recent post: बात न करो,

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार January 5, 2013 at 9:48 AM  



♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
♥♥नव वर्ष मंगलमय हो !♥♥
♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥



तना रहा इक गर्वीला मस्तक फिर भी,
चाहा था लोगो ने पर ना झुक पाया।

सत्ता का गुणगान कभी न लिख पाया।।

वाह ! वाऽह ! वाऽऽह !
ओजपूर्ण शब्द !
ख़ूबसूरत और सार्थक रचना !

आदरणीय गिरीश पंकज जी
जवाब नहीं आपका !

...लेकिन आजकल ब्लॉग पर रचनाएं कम क्यों लगा रहे हैं ?


नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
राजेन्द्र स्वर्णकार
◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार January 26, 2013 at 1:54 PM  



यू ट्यूब पर आपको सुन कर अच्छा लगा !
#
जीने का सामान मिल गया
पत्थर में भगवान मिल गया

#
सुबह मुहब्बत , शाम मुहब्बत
अपना तो है काम मुहब्बत
#
तुम जाओ तीरथ को यारों
अपने चारों धाम मुहब्बत

आऽऽहा हाऽऽऽ हऽऽऽ !
क्या बात है गिरीश भाईजी !
बहुत बढ़िया !

दोनों ग़ज़लें शानदार हैं ...
पिछली जनवरी में आपको हमारे यहां रूबरू सुनने के साल भर बाद
आज आपको पढ़ते हुए देख कर बहुत अच्छा लग रहा है ।

बहुत बहुत शुभकामनाएं !


आजकल ब्लॉग पर क्यों नहीं ?
... न हमारे न अपने ही !!
:(

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP