''सद्भावना दर्पण'

दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदि राज्यों में पुरस्कृत ''सद्भावना दर्पण भारत की लोकप्रिय अनुवाद-पत्रिका है. इसमें भारत एवं विश्व की भाषाओँ एवं बोलियों में भी लिखे जा रहे उत्कृष्ट साहित्य का हिंदी अनुवाद प्रकाशित होता है.गिरीश पंकज के सम्पादन में पिछले 20 वर्षों से प्रकाशित ''सद्भावना दर्पण'' पढ़ने के लिये अनुवाद-साहित्य में रूचि रखने वाले साथी शुल्क भेज सकते है. .वार्षिक100 रूपए, द्वैवार्षिक- 200 रूपए. ड्राफ्ट या मनीआर्डर के जरिये ही शुल्क भेजें. संपर्क- 28 fst floor, ekatm parisar, rajbandha maidan रायपुर-४९२००१ (छत्तीसगढ़)
&COPY गिरीश पंकज संपादक सदभावना दर्पण. Powered by Blogger.

तेज़ाब से जली पाँच कविताऍ

>> Thursday, May 8, 2014



(१)
तेज़ाब से जली लड़की / शर्मिन्दा है
ख़ुद पर नही / फेंकने वाले शख्स पर


कि वह अचानक दानव कैसे बन गया
कि कलंक क्यों दे गया समाज के माथे पर
लड़की / जब भी निहारती है दर्पण
भारत माँ की तरह दिखता है / एक और चेहरा
फिर वह मिट्टी से चिपट कर रो पड़ती है
(२)
तेज़ाब शर्मिन्दा है
अपने होने पर
घबराता जाता है वह
जब किसी अमानुष हाथो मे आता है
फेंके जाने के पहले तेज़ाब
हो जाता है पानी-पानी
(३)
तेज़ाब अब
खतरनाक पानी नहीं
इस मरती हुयी सदी की
झुलसी हुई कहानी है
(४)
तेज़ाब
चेहरे पर फेंके जाने से पहले
उस आत्मा को झुलसाता है
जिसे प्रभु
पूरे विश्वास के साथ
मनुष्य बनाता है
कभी-कभी भगवान भी
होता है शर्मिन्दा
अपने निर्णय पर
(५)
तेज़ाब फेंकने वाले को
फ़ांसी मत दो
मारो-पीटो भी मत
बस तेज़ाब ले कर खड़े हो जाओ
उस के परिजनों के  सामने
शायद..... शायद
मर ही जाये वो अपने आप

15 टिप्पणियाँ:

shikha varshney May 9, 2014 at 4:20 AM  

उफ़ ... दूसरी वाली क्षणिका सबसे ज्यादा प्रभावशाली लगी.

ब्लॉग बुलेटिन May 9, 2014 at 10:18 AM  

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन भारत का 'ग्लेडस्टोन' और ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

चला बिहारी ब्लॉगर बनने May 9, 2014 at 7:36 PM  

इतने सारे चेहरे एक तेज़ाब के और सब के सब झुलसे हुये... ऐतम बम बनाने वाले ने कब सोचा था कि हिरोशिमा और नागासाकी इसके परिणाम होंगे.. तेज़ाब का पानी-पानी होना बहुत शानदार कथन लगा!! सारी की सारी क्षणिकाएँ विशिष्ट हैं!!

आशा जोगळेकर May 10, 2014 at 6:34 AM  

तेज़ाब फेंकने वाले को
फ़ांसी मत दो
मारो-पीटो भी मत
बस तेज़ाब ले कर खड़े हो जाओ
उसकी बहन या माँ के सामने
शायद..... शायद
मर ही जाये वो अपने आप

बहुत ही दर्दभरी क्षणिकाएं।

गिरिजा कुलश्रेष्ठ May 10, 2014 at 9:16 AM  

सभी क्षणिकाएं बहुत ही मार्मिक हैं ।

Anju (Anu) Chaudhary May 10, 2014 at 10:33 AM  

सच में आज तेजाब खुद पर ही शर्मसार है

Anju (Anu) Chaudhary May 10, 2014 at 10:33 AM  

सच में आज तेजाब खुद पर ही शर्मसार है

प्रतिभा सक्सेना May 10, 2014 at 12:59 PM  

झकझोर देती है ऐसी अभिव्यक्ति पंकज जी,बस एक बात खटकी.
तेज़ाब फेंकनेवाले को असलियत बताने के लिए माँ-बहन ,चाहे उसी की हों ,सामने खड़ा करना जरूरी है?एक बार और नारी दाँव पर , शरीर चाहे न झुलसे उन नारियों की आत्मा तक दग्ध हो जाएगी.
उस पातकी को दंड देने का माध्यम फिर स्त्री?

girish pankaj May 10, 2014 at 10:39 PM  

प्रतिभाजी, आपके सुझाव को मान कर कविता मे संशोधन किया है

प्रतिभा सक्सेना May 10, 2014 at 11:06 PM  

आभारी हूँ गिरीश जी!

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया May 11, 2014 at 12:01 AM  
This comment has been removed by the author.
धीरेन्द्र सिंह भदौरिया May 11, 2014 at 12:04 AM  

बहुत ही सुंदर लाजबाब क्षणिकाए ...!
मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

RECENT POST आम बस तुम आम हो

Reena Maurya May 11, 2014 at 8:06 AM  

बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना....

Dayanand Arya July 22, 2014 at 9:16 PM  

सामने दर्पण में एक चेहरा दिखता है - भारत माँ का - झुलसा हुआ सा , शर्मसार ।

Rs Diwraya October 1, 2014 at 6:19 AM  

बहुत ही सुन्दर और रहिस्य से भरी पँक्तिया
आपना ब्लॉगसफर आपका ब्लॉग ऍग्रीगेटरपर लगाया गया हैँ । यहाँ पधारै

सुनिए गिरीश पंकज को

  © Free Blogger Templates Skyblue by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP